17 जून 2019, सोमवार | समय 22:29:04 Hrs
Republic Hindi Logo

बंगाल में सरकारी डॉक्टर हड़ताल पर, मरीजों की बढ़ी परेशानी

By Republichindi desk | Publish Date: 6/12/2019 1:32:43 PM
बंगाल में सरकारी डॉक्टर हड़ताल पर, मरीजों की बढ़ी परेशानी

न्यूज डेस्कः एनआरएस मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल दूसरे दिन भी जारी है. इससे यहां आने वाले मरीजों को  दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. बता दें कि कल नीलरतन सरकार मेडिकल कॉलेज अस्पताल में एक रोगी की मौत के बाद जूनियर डॉक्टरों के साथ मृतक के परिजनों की हुई मारपीट की घटना के बाद राज्यभर के जिले की स्वास्थ्य परिसेवा भी ठप्प हो गई है.

सोमवार की  घटना के बाद अस्पताल के करीब 650 जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गये. दिन में 12 बजे के बाद राज्य के दूसरे सरकारी अस्पतालों के जूनियर डॉक्टर भी हड़ताल पर चले गये. जूनियर डॉक्टरों ने कहा कि जब तक उन्हें पूर्ण सुरक्षा नहीं दी जाती, तब तक राज्य के किसी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में कोई कामकाज नहीं होगा. चिकित्सकों के फोरम ने घटना के विरोध में बुधवार को राज्य के सभी सरकारी और निजी अस्पताल के आउटडोर विभाग सुबह 9 बजे से रात 9 बजे तक बंद रखने का ऐलान किया है.डॉक्टरों से अपने निजी क्लिनिक भी बंद रखने की बात कही है.

डॉक्टरों के हड़ताल से परेशान पश्चिम मेदिनीपुर जिला अंतर्गत मेदिनीपुर स्थित मेदिनीपुर मेडिकल कॉलेज व अस्पताल (एमएमसीएच) के समक्ष रोगियों के आक्रोशित परिजनों ने जमकर हंगामा मचाया.

बताया जा रहा है कि नीलरतन सरकार मेडिकल कॉलेज अस्पताल की घटना से आक्रोशित एमएमसीएच के चिकित्सकों ने भी सुबह 9 बजे से रात 9 बजे तक स्वास्थ्य परिसेवा बंद रखने का निर्णय लिया.इस दौरान रोगियों को लेकर पहुंचे उनके परिजनों को जब पता चला कि अस्पताल की स्वास्थ्य परिसेवा पूरी तरह से बंद है, तो उनका भी धैर्य जवाब दे गया और सुबह 11 बजे से अस्पताल के समक्ष स्वास्थ्य परिसेवा पुन:चालू किए जाने की मांग करते हुए जमकर हंगामा मचाया.

खड़गपुर स्थित महकमा अस्पताल में भी स्वास्थ्य परिसेवा पूरी तरह से बंद रही.जिससे रोगियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा.इसके साथ ही जिले के सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य परिसेवा ठप्प पड़ गयी है.

इससे पहले कांग्रेस के सांसद अधीर रंजन चौधरी ने इस संबंध में पीएम नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा.कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने अपने पत्र में पीएम मोदी ने इस मामले का जिक्र किया है.इस पत्र के माध्यम से कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने पीएम मोदी को कोलकाता में मेडिकल कॉलेज और अस्पतालों के डॉक्टरों के कार्य बहिष्कार के मामले में दखल देने का अनुरोध किया गया है.

बर्दमान मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में डॉक्टरों की हड़ताल से परेशान लोग भी विरोध पर उतर आये और पत्थरबाजी करने लगे.

क्या है मामला

जानकारी के अनुसार,टेंगरा निवास मोहम्मद सईद (85) को उल्टी, पेट दर्द,सिर दर्द व अन्य कई शारीरिक परेशानियों की शिकायत पर सोमवार शाम अस्पताल के आउटडोर विभाग में भर्ती कराया गया था. धरना पर बैठे जूनियर डॉक्टरों का कहना है कि मरीज को काफी गंभीर अवस्था में लाया गया था.उधर,परिजनों का आरोप है कि सईद को एक इंजेक्शन लगाया गया था. जिसके बाद उनकी मौत हो गयी.जूनियर डॉक्टरों का यह भी आरोप है कि मरीज के परिजनों का आचरण काफी अभद्र था. अस्पताल में भर्ती कराये जाने के बाद ही परिजन डॉक्टर और नर्सिंग स्टॉफ के साथ अभद्रता से पेश आ रहे थे.

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus