24 अगस्त 2019, शनिवार | समय 01:12:42 Hrs
Republic Hindi Logo

पश्चिम बंगाल में चुनाव आयोग की ऐतिहासिक कार्रवाई, आला अधिकारियों को हटाया, प्रचार अवधि भी कम

By Republichindi desk | Publish Date: 5/15/2019 9:42:16 PM
पश्चिम बंगाल में चुनाव आयोग की ऐतिहासिक कार्रवाई, आला अधिकारियों को हटाया, प्रचार अवधि भी कम

रिपब्लिक डेस्क: पश्चिम बंगाल में हिंसा की घटनाओं के कारण चुनाव आयोग ने बहुत बड़ा और ऐतिहासिक फैसला लिया है. चुनाव प्रचार को एक दिन के लिए कम कर दिया गया है. यानी कल रात से ही अंतिम चरण के मतदान के लिए प्रचार थम जाएगा. इसके इतर राज्य के एडीजी और गृह सचिव को भी चुनाव आयोग ने उनके पदों से हटा दिया है.

पहली बार इतना कड़ा फैसला

जानकारों की नजर में चुनाव आयोग ने पहली बार इतना कड़ा फैसला लिया है. चुनाव आयोग ने धारा 324 के तहत अपने फैसले को लागू किया है. इस धारा का इस्तेमाल भी पहली बार किया गया है. इस फैसले के तहत पश्चिम बंगाल के अंतिम चरण में चुनाव प्रचार एक दिन पहले ही थम जाएगा. यानी शेष जगहों पर चुनाव प्रचार 17 मई को थमेगा जबकि पश्चिम बंगाल में 16 मई को दस बजे रात से ही चुनाव प्रचार अभियान थम जाएगा. इसके अलावा राज्य के एडीजी सीआईडी राजीव कुमार और राज्य के गृह विभाग के प्रधान सचिव को भी उनके पदों से हटा दिया गया है. दोनों अधिकारियों पर चुनाव प्रक्रिया में अवरोध पैदा करने तथा बाधा पहुंचाने की शिकायतें मिली थी. चुनाव आयोग ने अपनी जांच में पाया है कि दोनों अधिकारी राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी पर दबाव डाल रहे थे. लिहाजा इस तरह का फैसला लिया गया है. एडीजी सीआईडी राजीव कुमार सिंह को गृह मंत्रालय से अटैच कर दिया गया है. वहीं गृह विभाग के प्रधान सचिव को भी उनके पद से हटा दिया गया है. गृह सचिव की जिम्मेवारी सूबे के मुख्य सचिव को दी गई है.

अमित शाह के रोड शो में हुई थी जबरदस्त हिंसा

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में जबरदस्त हिंसा हुई थी. अमित शाह ने यह भी आरोप लगाया था कि यदि उनके साथ केंद्रीय सुरक्षाबलों का सुरक्षा दस्ता नहीं रहता तो उनकी हत्या भी की जा सकती थी. पश्चिम बंगाल के कई अफसरों पर आरोप है कि वे तृणमूल सरकार के प्रति निष्ठा दिखाते हुए चुनाव प्रक्रिया को बाधित कर रहे हैं. सबसे बड़ा आरोप यह था कि राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भी एडीजी सीआईडी और गृह सचिव के द्वारा निर्देश दिया जा रहा था. राज्य निर्वाचन अधिकारी को निर्देश दिए जाने के मामले को चुनाव आयोग ने काफी गंभीरता से लिया है. दोनों अधिकारियों को कल सुबह दस बजे तक अपना पद हर हाल में छोड़ना होगा.

 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus