20 अगस्त 2018, सोमवार | समय 11:55:58 Hrs
Republic Hindi Logo
Advertisement

कैराना : साल भर भी सांसद नहीं रहेंगी नई सांसद

By Republichindi desk | Publish Date: 5/8/2018 12:47:25 PM
कैराना : साल भर भी सांसद नहीं रहेंगी नई सांसद

नई दिल्ली: पश्चिमी उत्तर प्रदेश की कैराना लोकसभा सीट से आगामी उपचुनाव जीतने वाली सांसद साल भर भी सांसद नहीं रहेंगी. रहेंगी का इस्तेमाल इसलिए कि विपक्ष की उम्मीदवार महिला हैं और बीजेपी उम्मीदवार भी महिला होने की ही प्रबल संभावना है. दरअसल चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश की कैराना लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव की तारीख का ऐलान कर दिया है. 28 मई को वोटिंग और मतगणना 31 मई को होगी. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश की कैराना लोकसभा सीट से बीजेपी के हुकुम सिंह सांसद थे. इनकी मृत्यु के बाद से यह सीट खाली है. उप चुनाव में संयुक्त विपक्ष की उम्मीदवार तबस्सुम मुनव्वर होगीं तो बीजेपी की उम्मीदवार मृगांका सिंह हो सकती हैं. 

कौन हैं ये दोनों 

राष्ट्रीय लोकदल की टिकट पर चुनाव लड़ रही तबस्सुम मुनव्वर 2009 से 2014 तक कैराना से ही बीएसपी की सांसद रह चुकी हैं. बीजेपी दिवंगत सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को उम्मीदवार बनाने जा रही है. हालांकि अभी तक इसका औपचारिक एलान नहीं हुआ है. सपा-बसपा-रालोद के गठबंधन से कांग्रेस अलग-थलग पड़ी हुई है. हालांकि, कांग्रेस ने पहले ही कहा था कि कैराना में वो रालोद प्रत्याशी का समर्थन करेगी. उस वक्त सपा से रालोद का गठबंधन नहीं था. बदले हालात में भी माना जा रहा है कि कांग्रेस रालोद का समर्थन करेगी. 

कैराना का इतिहास-भूगोल 

कैराना संसदीय सीट के तहत पांच विधानसभा क्षेत्र हैं. इनमें से तीन शामली जिले में और दो सहारनपुर जिले में हैं. शामली, थानाभवन और कैराना शामली जिले में पड़ते हैं. सहारनपुर जिले में पड़ते हैं गंगोह और नुकार. एक नजर यदि 2014 लोकसभा चुनाव के परिणाम पर डालें तो कैराना की सीट पर बीजेपी की जीत हुई थी. बीजेपी के हुकुम सिंह 565909 मत पाकर 236628 मतों से विजयी रहे थे. सपा के नाहिद हसन को 329081, बसपा के कंवर हसन को 160414, रालोद के करतार सिंह भड़ाना को 42706 और तृणमूल कांग्रेस के दिनकर कश्यप को 6562 मत मिले थे. विपक्ष के सभी उम्मीदवारों को कुल 538763 मत मिला था.

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus