13 नवम्बर 2019, बुधवार | समय 13:47:44 Hrs
Republic Hindi Logo

केरल में भारी बारिश के साथ मॉनसून का प्रवेश, उत्तर भारत में सूखा

By लोकनाथ तिवारी | Publish Date: 6/8/2019 6:05:45 PM
केरल में भारी बारिश के साथ मॉनसून का प्रवेश, उत्तर भारत में सूखा

रिपब्लिक डेस्क: पश्चिम और दक्षिण भारत में सूखे के बीच शनिवार को केरल में मॉनसून पहुंचा. आमतौर पर यह 1 जून को केरल से टकराता है. मौसम विभाग (आईएमडी) के मुताबिक, इस बार आठ दिनों की देरी के बाद मॉनसून आया है. दक्षिण में लक्षद्वीप के ऊपर चक्रवाती क्षेत्र बना हुआ है. दक्षिण-पूर्व अरब सागर में लो प्रेशर क्षेत्र भी बन रहा है. मॉनसून अगले 24 घंटे में पूर्वोत्तर के त्रिपुरा में दस्तक दे सकता है. स्काईमेट ने इस साल 93% और मौसम विभाग ने 96% बारिश की संभावना जाहिर की है.

मौसम विभाग ने 9 जून के लिए केरल के आठ जिलों तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, अलपुझा, कोट्टयम, एर्नाकुलम, त्रिशूर, मल्लाप्पुरम और कोझिकोड में ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. वहीं, 10 जून को त्रिशूर में रेड अलर्ट रहेगा. एर्नाकुलम, मलाप्पुरम और कोझिकोड जिले में 11 जून को रेड अलर्ट जारी किया गया है. इन इलाकों में भारी से भारी बारिश होने की आशंका है.

13 जून तक कर्नाटक पहुंचेगा

मॉनसून श्रीलंका को कवर करने के बाद भारत की तरफ मुड़ गया है, बंगाल की खाड़ी मे विक्षोभ से नॉर्थ-ईस्ट और पश्चिम बंगाल में हल्की बारिश हो रही है. कर्नाटक सरकार ने बारिश के लिए मंदिरों में पूजा कराने के आदेश दिए हैं. बेलगाम के सवादत्ती (सौंदत्ती) येलम्मा मंदिर में बारिश के लिए पूजा जारी है. विशेष पूजा में धार्मिक विभाग के मंत्री पीटी परमेश्वर नाईक समेत कई मंत्री शामिल होंगे.

हिमाचल में बारिश

हिमाचल प्रदेश के चंबा, शिमला और कुफरी में गुरुवार की रात बारिश हुई. इससे मैदानी इलाकों से आने वाली गर्म हवाओं से लोगों को राहत मिली. मौसम विभाग के अनुसार, अगले एक हफ्ते तक मौसम सुहाना रहेगा. शुक्रवार को डलहौजी का अधिकतम तापमान 21 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. अधिकांश ग्रामीण भारत चार महीने के मॉनसून के मौसम पर निर्भर करता है, जिसमें वार्षिक वर्षा का 75 प्रतिशत हिस्सा होता है. एक अच्छे मॉनसून का अर्थव्यवस्था पर सीधा प्रभाव पड़ता है क्योंकि कृषि भारत की जीडीपी में प्रमुख योगदानकर्ता है.

उत्तर भारत व मध्य भारत में सूखा

उत्तर भारत,  मध्य भारत और दक्षिण भारत के कुछ हिस्सों में 45 डिग्री सेल्सियस से अधिक तापमान दर्ज किया गया है. वहीं राजस्थान के कुछ हिस्सों में पारा 50 डिग्री से अधिक हो गया है. दिल्ली में मॉनसून दो से तीन दिन की देरी से पहुंच सकता है. शहर में सामान्य मॉनसून रहने की संभावना है. उत्तर पश्चिम भारत में भी सामान्य मॉनसून रहने की संभावना है.
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus