26 अगस्त 2019, सोमवार | समय 05:56:34 Hrs
Republic Hindi Logo

कोलकाता में पाकिस्तानी युवा को थप्पड़ मारने के बजाय लोगों ने गले लगाया

By लोकनाथ तिवारी | Publish Date: 8/12/2019 2:01:38 PM
कोलकाता में पाकिस्तानी युवा को थप्पड़ मारने के बजाय लोगों ने गले लगाया

रिपब्लिक डेस्क: यह कोलकाता है. इसे यूं ही देश की सांस्कृतिक राजधानी नहीं कहा जाता. इसे मिनी भारत भी कहा जाता है. यहां आज भी लोग एक दूसरे की मदद करते हैं. दूसरे के झगड़ों में पड़ कर उसे सुलझाने की कोशिश करते हैं. कोलकाता की जीवंतता को परखने के लिए यह उदाहरण प्रस्तुत है. कश्मीर से धारा 370 हटाने को लेकर जब भारत और पाकिस्तान में छद्मयुद्ध चल रहा है तो एक पाकिस्तानी युवक कोलकाता की सड़कों पर सरेआम खड़े होकर कहता है कि आई एम फ्रॉम पाकिस्तान प्लीज स्लैप मी/हग मी. यानी मैं पाकिस्तान से हूं मुझे थप्पड़ मारिये या गले लगाइये. जानते हैं वह युवक आठ घंटे तक यूं ही सड़क पर खड़े रहा, लेकिन उस युवक को किसी ने थप्पड़ नहीं मारा बल्कि सभी ने उसे गले लगाया.

कोलकाता की गलियों में शनिवार को यह एक्सपेरिमेंट करनेवाला भानगढ़ महाविद्यालय में ग्रैजुएशन फर्स्ट ईयर का छात्र आरिफुद्दीन मोल्ला है. आरिफ यूट्यूब चैनल द फंकी एक्सप्रेस चलाते हैं और स्वतंत्रता दिवस के एक दिन पहले शाम को वह अपने चैनल में इस विडियो को अपलोड करेंगे. यह यूट्यूब चैनल आरिफ और 18 साल के सुजाद्दौला मिलकर चलाते हैं. सुजाद विडियो शूट करते हैं.

आरिफुद्दीन मोल्ला पाकिस्तान को लेकर जनता की धारणा को समझना चाहता है.  आरिफ ने बताया कि वह जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद लोगों के मन की धारणा समझना चाहते थे. उन्होंने बताया कि इस फैसले को बड़े पैमाने पर समर्थन मिला, इसलिए मैं देखना चाहता था कि पाकिस्तान को लेकर हमारी धारणा में अब कुछ बदलाव आया है या नहीं.

19 साल के आरिफ ने हाथ से पोस्टर बनाया और पोस्टर लेकर दक्षिण एवेन्यू गए और वहां मेनका सिनेमा के पास धकुरिया झील के एक प्रवेश द्वार पर खडे़ हो गए. वह शनिवार को दोपहर 12 बजे से रात 8 बजे तक हाथ में पोस्टर लिए खड़े रहे. 8 घंटे के लंबे एक्सपेरिमेंट में आरिफ ने महसूस किया कि लोगों में पाकिस्तानी नागरिकों को लेकर कोई शत्रुता नहीं है.

 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus