23 अक्तूबर 2019, बुधवार | समय 07:23:00 Hrs
Republic Hindi Logo

वाराणसी में ठेकेदार को दिनदहाड़े मारी सात गोलियां

By लोकनाथ तिवारी | Publish Date: 9/30/2019 2:54:49 PM
वाराणसी में ठेकेदार को दिनदहाड़े मारी सात गोलियां

रिपब्लिक डेस्क: यूपी के वाराणसी में अपराधियों ने सोमवार को दिनदहाड़े ताबड़तोड़ फायरिंग कर ठेकेदार को मौत के घाट उतार दिया. वाराणसी सदर तहसील में पल्सर से आये बदमाशों ने फार्च्यूनर सवार बस संचालक नितेश सिंह उर्फ बबलू सिंह पर अंधाधुंध फायरिंग कर बबलू के शरीर में सात गोलियां उतार दी. बबलू के पास भी पिस्टल थी लेकिन उसे निकालने तक का मौका नहीं मिला. बाइक सवार बदमाश असलहा लहराते हुए मौते से फरार हो गए.

जिला मुख्यालय से सटे तहसील परिसर में सनसनीखेज वारदात की सूचना मिलते ही हड़कंप मच गया. स्थानीय पुलिस के साथ ही आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए. पुलिस हत्या के कारणों की पड़ताल में जुटी है. आशापुर के पास स्थित लोहिया नगर में रहता था. मृतक बबलू सिंह फार्च्यूतनर गाड़ी (यूपी 32 ईई 0900) से सोमवार की सुबह 10 बजे तहसील सदर पहुंचा था. पल्सीर सवार दो युवक मौके पर पहुंचे. एसडीएम सदर कार्यालय के सामने पल्स र सवार युवकों ने नितेश का पीछा किया जिससे बचने के लिए वह गाड़ी की तरफ भागा. बबलू की फॉर्चुयनर बुलेटप्रूफ थी और घात लगाए बदमाशो ने गाड़ी का दरवाजा खुलते ही ताबड़तोड़ फायरिंग की. वह ड्राइविंग सीट पर घुसने की कोशिश कर ही रहा था कि बदमाशों ने उसे गोलियों से भून दिया.

नितेश उर्फ बबलू को कुल सात गोलियां लगी हैं और मौके पर ही उसने दम तोड़ दिया. इसके बाद हमलावर भाग निकले. हत्यात के पीछे प्रथमदृष्ट या प्रॉपर्टी का विवाद माना जा रहा है. बबलू सिंह चंदौली जिले के धानापुर थाना क्षेत्र के ओदरा का मूल निवासी था. बबलू के पिता वन विभाग में रेंजर से सेवानिवृत्त हैं. बबलू वन विभाग में ठेकेदारी भी करता था. गाजीपुर-वाराणसी रूट पर सहेली नाम से बस चलती है. बबलू कई कार्यालय में कैंटीन भी चलवाता था. यह वाहन लखनऊ में अनीता सिंह के नाम से रजिस्टहर्ड है. आशापुर निवासी नितेश संभवत: किसी जमीन के सिलसिले में यहां आया था.

पुलिस के मुताबिक ठेकेदार के पास भी लाइसेंसी पिस्टल बरामद हुई है. वहीं ठेकेदार को सात गोलियां मारी गई हैं. घटना की सूचना मिलने पर कमिश्नर दीपक अग्रवाल और आईजी रेंज विजय सिंह मीणा भी मौके पर पहुंचे. पुलिस ने मृतक प्रॉपर्टी डीलर के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. मौत की सूचना मिलते ही मृतक के घर में कोहराम मचा हुआ है. फिलहाल पुलिस वारदात की जांच पड़ताल में जुट गई है.

पुलिस के लाख दावों के बाद भी वाराणसी में हत्याओं का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है. दो महीने में ही सनसनीखेज सात हत्याओं को अंजाम दे दिया गया. सारनाथ में पाइप कारोबारी, लालपुर में दिव्यांग दिलीप को गोली से उड़ाया गया. सारनाथ में ही बुजुर्ग महिला दुकानदार को चार गोलियां मारकर मौत की नींद सुला दिया गया. बीएचयू में बुजुर्ग दुकानदार की हत्या कर दी गई. शहर के बीचोबीच काली महाल में पुरोहित और उसकी पत्नी की गोली मारकर हत्या कर दी गई. यहां पूरे परिवार की हत्या होनी थी. बेटे संयोग से बच गए. आज बस संचालक की हत्या कर दी गई.

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus