17 अक्तूबर 2019, गुरुवार | समय 20:47:45 Hrs
Republic Hindi Logo

BJP का मिशन 2022 शुरू, एनडीए की एकजुटता दिखी

By Republichindi desk | Publish Date: 5/22/2019 12:33:48 PM
BJP का मिशन 2022 शुरू, एनडीए की एकजुटता दिखी

रिपब्लिक डेस्क. लोकसभा चुनाव के नतीजों से पहले ही बीजेपी नेतृत्व ने मिशन 2022 पर काम शुरू कर दिया है. जब समूचा विपक्ष ईवीएम को बड़ा मुद्दा बनाने में जुटा था, तब  डिनर पार्टी में एनडीए के सहयोगियों को नरेंद्र मोदी और अमित शाह 2022 का एजेंडा समझा रहे थे. नतीजों के बहाने बुलाई गई इस डिनर पार्टी के जरिए बीजेपी ने न केवल सहयोगियों को साधा, बल्कि यह भी बता दिया कि अगले चार से पांच साल उन्हें किस ट्रैक पर चलना है. इससे पहले दिल्ली स्थित बीजेपी मुख्यालय पर हुई एनडीए की बैठक में कई प्रस्ताव भी पारित हुए. इसमें से कुछ प्रस्ताव मिशन 2022 से जुड़े रहे.

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि समय से पहले की प्लानिंग बीजेपी की उस रणनीति का हिस्सा है, जो वह विपक्ष के मुकाबले के लिए दो कदम आगे का दांव चलने के लिए जानी जाती है.  एनडीए के सबसे वरिष्ठ नेताओं के लिए मोदी-शाह के साथ बैठने की व्यवस्था थी. इसमें सबसे वरिष्ठ नेता अकाली दल प्रमुख प्रकाश सिंह बादल थे.

क्यों खास है वर्ष 2022 में-

दरअसल, 2022 में देश की आजादी के 75 साल पूरे होने जा रहे हैं. ऐसे में बीजेपी ने अपनी कई महत्वाकांक्षी योजनाओं को इस वर्ष तक पूरा करने का टारगेट तय किया है. 2022 को सरकारी उपलब्धियों के जरिए बीजेपी ने यादगार बनाने की योजना बनाई है. बैठक में यह फैसला लिया गया कि 2022 में, भारत जब आजादी के 75 साल पूरे करेगा, हमारे महान स्वतंत्रता सेनानियों ने जिस मजबूत, समृद्ध, विकसित और समावेशी भारत का सपना देखा, हम उन सपनों को पूरा करें और उन्हें आकार दें.

क्या है आगे का प्लान-

एनडीए के प्रस्ताव में आधारभूत संसाधनों के विकास के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर में 100 लाख करोड़ की पूंजी निवेश किए जाने का प्रस्ताव पास हुआ. कहा गया कि 25 लाख करोड़ रुपये खेत और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए खर्च होंगे. मकसद है कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा स्टार्ट-अप इको-सिस्टम बन जाए. इन कदमों के साथ भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की ओर अग्रसर होगा. एक बार 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के प्रस्ताव पर मुहर लगी.

एनडीए को यकीन, सरकार हमारी ही बनेगी-

लगभग सभी एग्जिट पोल ने देश में दोबारा बहुमत से मोदी सरकार बनने के अनुमान व्यक्त किए हैं. एनडीए को भी बहुमत से जीत की पूरी आस है. मोदी-शाह की ओर से बुलाई गई एनडीए की बैठक में पारित हुए प्रस्ताव में यह स्पष्ट लिखा है कि हमारी समर्पित कार्यशैली एवं दृष्टिकोण के आधार पर, एनडीए परिवार को यकीन है  कि भारत के लोग एक बार फिर से देश का नेतृत्व करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आशीर्वाद देंगे, जिसका वह पूरी तरह से हकदार हैं.

इन मुद्दों पर एनडीए ने जताई चिंता-

एनडीए ने इस दौरान न केवल पश्चिम बंगाल में चुनाव के दौरान हुई हिंसा पर गहरी चिंता जताई, बल्कि कैग, चुनाव आयोग, पुलिस, सुरक्षा बलों और न्यायपालिका से लेकर अन्य संस्थानों पर विपक्ष पर हमला करने का आरोप लगाया. कहा कि संस्थाओं पर व्यवस्थित हमले से हम समान रूप से चिंतित हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जाति-पाति नहीं बल्कि गरीबी ही सबसे बड़ी समस्या है.

जीत के कारण भी बताए-

एनडीए की बैठक महज 2019 के लोकसभा चुनाव और 2022 के एजेंडे तक ही नहीं सिमटी, बल्कि अतीत पर भी चर्चा हुई. 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी और एनडीए की जीत के कौन से कारण रहे, इस पर भी बैठक में नेताओं ने चर्चा की. एनडीए को विकास के एजेंडे के साथ विविधता का गठबंधन बताते हुए कहा गया कि 2014 में एनडीए की सरकार इसलिए बनी, क्योंकि यूपीए सरकार में देश भ्रष्टाचार, क्रोनी कैपिटलिज्म और आर्थिक रुकावटों से घिरा हुआ था. जनता में बीजेपी और एनडीए ने आशा का संचार किया. यही जीत की वजह रही.

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus