23 अक्तूबर 2019, बुधवार | समय 05:38:07 Hrs
Republic Hindi Logo

2021 से पहले चुनाव क्यों नहीं संभव है जम्मू कश्मीर में

By Republichindi desk | Publish Date: 8/30/2019 9:22:07 AM
2021 से पहले चुनाव क्यों नहीं संभव है जम्मू कश्मीर में
न्यूज़ डेस्क. चुनाव आयोग के सूत्रों की माने तो जम्मू कश्मीर विधानसभा चुनाव 2021 से पहले संभव नहीं हो पाएगा. वजह है जम्मू कश्मीर में होने वाला परिसीमन. आयोग के सूत्रों के मुताबिक गृह मंत्रालय से हरी झंडी मिलने और परिसीमन आयोग के गठन के बाद परिसीमन की प्रकिया में कम से कम 10 से 15 महीने का वक़्त लग सकता है. जबकि यह प्रक्रिया 31 अक्टूबर के बाद ही शुरू होगी. हालांकि चुनाव आयोग ने परिसीमन के लिए पूरा खाका तैयार कर लिया है.
 
जम्मू कश्मीर में परिसीमन के लिए चुनाव आयोग 2000- 2001 के उत्तराखंड में किए परिसीमन को आधार बनाएगा. करीब 10 चरणों में परिसीमन का ये काम पूरा होगा. जम्मू कश्मीर में इससे पहले 1995 में परिसीमन हुआ था. जिसके मुताबिक वहां विधानसभा की कुल 111 सीटें थीं. अब लद्दाख के अलग यूनियन टेरीटरी बनने के बाद 4 सीटें कम हो जाएगी. यानि अब जम्मू कश्मीर विधानसभा में 107 रह जाएंगी. चुनाव आयोग के सूत्रों के मुताबिक परिसीमन के बाद जम्मू कश्मीर में 7 सीटें बढ़ जाएगी. जिसके बाद जम्मू कश्मीर में कुल 114 विधानसभा की सीटें हो जाएंगी. जिनमें से 24 विधानसभा की सीट POK के लिए आरक्षित रहती हैं. इसका मतलब साफ है कि जम्मू कश्मीर में अगले विधानसभा चुनाव 90 सीटों पर होंगे.
 
जम्मू कश्मीर के पिछले विधानसभा चुनाव के नतीजों पर यदि नज़र डालें तो जम्मू क्षेत्र की 37 विधानसभा सीटों में से बीजेपी ने 25 पर जीत हासिल की थी. 5 कांग्रेस और कश्मीर घाटी की दो बड़ी पार्टियों, यानी महबूबा मुफ़्ती की पीडीपी और उमर अब्दुल्लाह की नेशनल कांफ्रेंस को 3-3 सीटें मिली थीं. एक सीट निर्दलीय उमीदवार के नाम गई थी. दूसरी तरफ कश्मीर घाटी की 46 विधानसभा चुनाव क्षेत्रों में से पीडीपी को 28 सीटें मिली थीं जबकि नेशनल कांफ्रेंस ने 15 पर जीत हासिल की थी और कांग्रेस ने 12 पर जीत दर्ज की थी. माना जा रहा है कि परिसीमन के बाद जम्मू इलाके में 7 सीटें बढ़ जाएंगी. यानि जम्मू क्षेत्र में विधानसभा की सीटें 37 से बढ़कर 44 हो जाएंगी.

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus