13 नवम्बर 2019, बुधवार | समय 12:36:20 Hrs
Republic Hindi Logo

कांग्रेस में एनसीपी के विलय से दोनों को लाभ

By लोकनाथ तिवारी | Publish Date: 5/30/2019 6:19:23 PM
कांग्रेस में एनसीपी के विलय से दोनों को लाभ

रिपब्लिक डेस्क: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और एनसीपी के प्रमुख शरद पवार की मुलाकात से कांग्रेस और एनसीपी के विलय की खबरों को बल मिला है. अभी यह स्पष्ट नहीं है कि विलय को लेकर दोनों नेताओं के बीच चर्चा हुई है कि नहीं.राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि एनसीपी का कांग्रेस में विलय होने पर लोकसभा में एनसीपी के पांच सांसदों के साथ कांग्रेसी सांसदों की संख्या बढ़कर 57 हो जाएगी और उनको विपक्ष के नेता का पद भी मिल जाएगा.

राजनीतिक जानकारों का मानना है कि विलय का सुझाव देने वाले नेता दोनों ही दलों में हैं. पार्टी के नेताओं ने प्रस्ताव भी तैयार किया है, जिसके तहत विलय होने पर एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार को राज्यसभा में विपक्ष का नेता का पद और लोकसभा में राहुल गांधी को विपक्ष के नेता का पद दिया जायेगा.

शरद पवार के बाद राहुल गांधी से कर्नाटक के सीएम एचडी कुमारस्वामी ने भी मुलाकात की. कुमारस्वामी ने राहुल के साथ राज्य के वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य पर चर्चा की. कुमारस्वामी ने राहुल गांधी से कहा कि राज्य में गठबंधन सरकार दोनों दलों के बीच सहयोग और समन्वय के साथ सुचारू रूप से काम कर रही है. इसके साथ ही कुमारस्वामी ने राहुल से कांग्रेस अध्यक्ष के पद से इस्तीफा न देने की अपील की.

लोकसभा चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन से नाराज राहुल गांधी इस्तीफा देना चाहते हैं. सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी समेत पूरी कांग्रेस उन्हें मनाने की कोशिश कर रही है, लेकिन राहुल इस्तीफे पर अड़े हैं. अब कांग्रेस के सहयोगी दलों के नेता राहुल से इस्तीफा न देने की अपील कर रहे हैं.
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus