12 नवम्बर 2019, मंगलवार | समय 13:30:52 Hrs
Republic Hindi Logo

सवर्णों की नाराजगी दूर करने के लिए भाजपा ने कसी कमर, भूमिहार नेताओं को मैदान में उतारा

By Republichindi desk | Publish Date: 5/14/2019 10:08:12 AM
सवर्णों की नाराजगी दूर करने के लिए भाजपा ने कसी कमर, भूमिहार नेताओं को मैदान में उतारा
पटना: भारतीय जनता पार्टी ने सवर्णों की नाराजगी को दूर करने के लिए कमर कस ली है. भूमिहार मतदाताओं के बारे में धारणा है कि वे भारतीय जनता पार्टी से कतिपय कारणों से नाराज चल रहे हैं. उनकी नाराजगी को दूर कर उन्हें अपने पाले में मिलाने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने भूमिहार नेताओं को मैदान में उतार दिया है. 
 
भूमिहार नेता चला रहे सघन जनसंपर्क अभियान
 
भूमिहारों की नाराजगी को दूर करने के लिए भूमिहार बहुल इलाके में भूमिहार नेताओं के दौरे तेज हो गए हैं. भारतीय जनता पार्टी और सहयोगी दलों के भूमिहार नेताओं को हर लोकसभा क्षेत्र में भेजा जा रहा है. राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, डॉ सीपी ठाकुर, सूरजभान सिंह, महाचंद्र सिंह, नीरज कुमार, चंदन कुमार, वीणा देवी सहित भूमिहार समाज के दूसरे नेताओं को चुनाव मैदान में उतार दिया गया है. हर विधानसभा क्षेत्र में इन्हें भेजा जा रहा है ताकि अधिक से अधिक गांवों में इनका कार्यक्रम हो सके और इन्हें भूमिहार मतदाताओं को समझाने में सफलता मिल सके.
 
सूरजभान सिंह और महाचंद्र सिंह का सघन जनसंपर्क अभियान
 
लोजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पूर्व सांसद सूरजभान सिंह ने भी ताकत झोंक रखी है. वैशाली के बाद नालंदा, जहानाबाद और पाटलिपुत्र विधानसभा क्षेत्रों में सूरजभान सिंह का लगातार जनसंपर्क अभियान चल रहा है. नालंदा के भूमिहार बहुल गांव में भी जाकर उन्होंने भूमिहार मतदाताओं को समझाने की कोशिश की है. इसके अलावा पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र के कई गांवों में भी उनका जनसंपर्क अभियान चला है. बिहार के पूर्व मंत्री महाचन्द्र प्रसाद सिंह भी सघन दौरा कर रहे हैं. नवादा से लोजपा प्रत्याशी चंदन कुमार भी अपने भाई सूरज भान सिंह के साथ भूमिहार बहुल गांवों गांव में जा रहे हैं.
 
उपेक्षा से आहत हैं भूमिहार
 
दरअसल लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी ने सिर्फ एक भूमिहार प्रत्याशी को मैदान में उतारा है. जनता दल यूनाइटेड और लोक जनशक्ति पार्टी ने भी भूमिहार कोटे में एक एक सीट ही निर्धारित की थी. राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ने तीन सीट भूमिहार समाज को दिया है लेकिन जहानाबाद की सीट पर भूमिहार के बजाय दूसरी सामाजिक पृष्ठभूमि के उम्मीदवार को चुनाव मैदान में उतारने से लोग काफी ज्यादा नाराज हैं. हालांकि महागठबंधन की तुलना में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ने इस समाज को ज्यादा प्रतिनिधित्व दिया है. डॉ सीपी ठाकुर और सच्चिदानंद राय की नाराजगी खुलकर सामने आने के बाद भाजपा के बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव को पहल करनी पड़ी थी और यह तय हुआ था कि विधान परिषद और राज्यसभा में इस समाज को प्रतिनिधित्व दिया जाएगा.
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus