20 अगस्त 2019, मंगलवार | समय 22:38:19 Hrs
Republic Hindi Logo

पीएनबी घोटालाः चौथी बार नीरव मोदी की जमानत अर्जी खारिज

By Republichindi desk | Publish Date: 6/12/2019 4:01:16 PM
पीएनबी घोटालाः चौथी बार नीरव मोदी की जमानत अर्जी खारिज

न्यूज डेस्कः पंजाब नेशनल बैंक घोटाले (पीएनबी) मामले में आरोपी और भगोड़े नीरव मोदी को लंदन की अदालत से एक बार फिर झटका लगा है.लंदन की हाईकोर्ट ने नीरव को जमानत देने से इनकार कर दिया है. इसके अलावा जज ने नीरव को लेकर कड़ी टिप्पणी करते हुए ये शक जताया है कि अगर बेल मिली तो सबूतों से छेड़छाड़ हो सकती है.

हाईकोर्ट से पहले वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट ने भी यही कहते हुए नीरव की अर्जी 3 बार खारिज की थी.नीरव 86 दिन से लंदन की वांड्सवर्थ जेल में है. 19 मार्च को उसकी गिरफ्तारी हुई थी.

सुनवाई के दौरान जज की तरफ से नीरव मोदी के वकील को फटकार भी लगाई गई है. जज ने कहा है कि वह इस बात पर यकीन नहीं कर सकते कि बेल मिलने पर किसी सबूत को नष्ट नहीं किया जाएगा. सुनवाई के दौरान जज ने कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा कि भविष्य में क्या होगा, कौन जानता है. वेस्टमिंस्टर  कोर्ट से तीसरी बार याचिका खारिज होने के बाद नीरव ने 31 मई को हाईकोर्ट में अर्जी लगाई थी. हाईकोर्ट में नीरव की याचिका पर बीते मंगलवार (11 जून) को सुनवाई हुई थी. कोर्ट ने कहा था कि फैसले के लिए वक्त चाहिए, इसलिए बुधवार की तारीख दी थी.

हाईकोर्ट में मंगलवार को सुनवाई के दौरान नीरव की वकील क्लेर मोंटगोमरी ने कहा था कि जमानत मिलने पर नीरव इलेक्ट्रोनिक डिवाइस से निगरानी रखे जाने के लिए तैयार है, उसका फोन भी ट्रैक किया जा सकेगा.मोंटगोमरी ने कहा कि नीरव यहां पैसा कमाने आया है.अब तक ऐसी कोई बात सामने नहीं आई जिससे लगे कि वह भाग सकता है.उसके बेटे-बेटी भी यहां पढ़ाई के लिए आने वाले हैं.

नीरव का ब्रिटेन आना संयोग नहीं था- सीपीएस

भारत की ओर से केस लड़ रही क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस (सीपीएस) ने कहा- नीरव पर आपराधिक और धोखाधड़ी के आरोप हैं. यह असुरक्षित कर्ज का मामला है. जज ने भी अब तक यह समझ लिया है कि इस मामले में डमी पार्टनर्स के जरिए लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स जारी किए गए. हमने जज से कहा कि आपने मामला सही समझा है.
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus