17 अक्तूबर 2019, गुरुवार | समय 22:25:00 Hrs
Republic Hindi Logo

अगस्ता वेस्टलैंड केस: भारत लाया गया बिचौलिया मिशेल,कोर्ट में पेश

By Republichindi desk | Publish Date: 12/5/2018 1:18:12 PM
अगस्ता वेस्टलैंड केस: भारत लाया गया बिचौलिया मिशेल,कोर्ट में पेश

नई दिल्लीः अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाला मामले में भारत को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. 3,600 करोड़ रुपये के इस चॉपर सौदे के कथित बिचौलिए और ब्रिटिश नागरिक क्रिश्चियन मिशेल को भारत ले आया गया है.उसे आज दिल्ली के पटियाला कोर्ट  में पेश किया गया.यह ऑपरेशन राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के नेतृत्व में चलाया गया. भारत की जांच एजेंसियां मिशेल को मंगलवार को दुबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट ले गईं थीं.वहां से उन्हें भारत लाया गया.

सीबीआई ने बताया कि ऑपरेशन की जिम्मेदारी अंतरिम सीबीआई निदेशक एम नागेश्वर राव और जॉइंट डायरेक्टर साई मनोहर के नेतृत्व था. खलीज टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक 54 वर्षीय मिशेल को दुबई एयरपोर्ट ले जाया गया है और वहां भारत लाया जाएगा.भारत ने 2017 में खाड़ी देशों से उनके प्रत्यर्पण की मांग की थी.सीबीआई और ईडी इस मामले में उनपर आपराधिक मामले के तहत जांच कर रहे थे.

संयुक्त अरब अमीरात राजदूत ने कहा कि हमें अपनी न्यायिक प्रणाली पर भरोसा है. बता दें कि इससे पहले मिशेल के संबंध में भारत में संयुक्त अरब अमीरात के राजदूत अहमद अलबाना ने बयान दिया था कि 3,600 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदा मामले के कथित बिचौलिये क्रिश्चयन मिशेल के प्रत्यर्पण का फैसला संयुक्त अरब अमीरात की न्यायिक प्रणाली पर छोड़ देना चाहिए.राजदूत ने कहा कि हमें अपनी न्यायिक प्रणाली पर भरोसा है.हम उन्हीं पर छोड़ते हैं कि क्या करना है और क्या नहीं करना है. इस महीने की शुरुआत में दुबई की शीर्ष अदालत ने मिशेल के प्रत्यर्पण पर विचार करने संबंध निचली अदालत के फैसले को बरकरार रखा था.मिशेल संयुक्त अरब अमीरात में कुछ मामलों को लेकर जेल में बंद था.

2017 में यूएई में मिशेल को किया गया गिरफ्तार 

बिचौलिए मिशेल को फरवरी 2017 में यूएई में गिरफ्तार कर लिया गया था. मिशेल के वकील ने आरोप लगाया था की भारतीय जांच एजेंसी सीबीआई उनके क्लाइंट पर दबाव बना रही है. हालांकि जांच एजेंसी ने मिशेल के वकील के इन आरोपों को खारिज कर दिया था.ईडी ने जून 2016 में मिशेल के खिलाफ दायर अपने आरोप-पत्र में आरोप लगाया था कि उसने अगस्ता वेस्टलैंड से करीब 225 करोड़ रुपये प्राप्त किए. ईडी ने कहा था कि यह पैसा और कुछ नहीं, बल्कि कंपनी द्वारा 12 हेलिकॉप्टरों के समझौते को अपने पक्ष में कराने के लिए वास्तविक लेन-देन के नाम पर दी गई रिश्वत थी.

 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus