24 अप्रैल 2019, बुधवार | समय 03:29:17 Hrs
Republic Hindi Logo

IPS लिपि सिंह की रेड में दोहरे हत्याकांड का अभियुक्त गिरफ्तार, हथियार भी बरामद

By Republichindi desk | Publish Date: 4/6/2019 7:54:08 AM
IPS लिपि सिंह की रेड में दोहरे हत्याकांड का अभियुक्त गिरफ्तार, हथियार भी बरामद
पटना: पटना पुलिस की लेडी सिंघम लिपि सिंह ने एक बार फिर बड़ी कार्रवाई की है. दोहरे हत्याकांड के चार्जशीटेड अभियुक्त को हथियारों के साथ गिरफ्तार किया गया. पुलिस ने जिस शख्स को गिरफ्तार किया है वह डबल मर्डर का चार्जशीटेड अभियुक्त है.
यह भी देखें-

बाढ़ के दयाचक मोहल्ले में कार्रवाई
 
सहायक पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह को सूचना मिली थी कि बाढ़ थाना क्षेत्र के दयाचक मोहल्ले में गजानन्द पांडेय किराए वाले मकान में बाहर से कुछ संदिग्ध लोग आए हुए हैं. मुखबिरों से मिली सूचना के आधार पर एएसपी लिपि सिंह ने मोकामा इंस्पेक्टर राजेश रंजन, बाढ़ इंस्पेक्टर संजीत कुमार सिंह, बाढ़ थाने के दारोगा अमरदीप कुमार को साथ लेकर छापामारी की. एएसपी के नेतृत्व में की गई छापामारी के दौरान दोहरे हत्याकांड का अभियुक्त गिरफ्तार हुआ है. एएसपी ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि टाल इलाके के गजानंद पांडे के बाढ़ स्थित आवास पर टाल के कुछ अपराधकर्मी और फरार वारंटी आए हुए थे. इसी सूचना पर बाढ़ थाने के दयाचक स्थित गजानंद पांडे के आवास पर छापामारी हुई. अपराधी पुलिस की छापामारी से पहले भाग निकले थे लेकिन वहां से दो हथियार और गोलियां बरामद हुई है. पुलिस के अनुसार गजानंद पांडे खुद दोहरे हत्याकांड का अभियुक्त है.
 
2015 विधानसभा चुनाव बाद हुआ था डबल मर्डर
 
गिरफ्तार गजानंद पांडेय 2015 विधानसभा चुनाव बाद हुए डबल मर्डर में शामिल था. पुलिस उसके खिलाफ भदौर थाना कांड संख्या 60/ 2015 में चार्जशीट दायर कर चुकी है. पिछले विधानसभा चुनाव के दूसरे दिन भदौर थाना क्षेत्र के बकावां गांव में जवाहर सिंह और प्रेम सिंह की हत्या कर दी गई थी. परिजनों द्वारा राजनीतिक रंजिश में हत्या का आरोप लगाया गया था. गजानंद पांडे उस दोहरे हत्याकांड का अभियुक्त है. उस मामले में फिलहाल वह जमानत पर है. इस चुनाव में उसकी गतिविधियों को लेकर कई तरह की शिकायतें मिली थी. बकावां और आसपास के गांवों में लोगों को धमकाने की शिकायतें भी लगातार मिल रही थीं.

बेटों पर पुलिस ने दिखाई नरमी
 
छापामारी के दौरान पिस्टल, मैगजीन, गोलियां और सिक्स राउंड रिवाल्वर बरामद होने के बाद छापामारी टीम में शामिल कुछ पुलिसकर्मियों ने बेटों की गिरफ्तारी करने की सलाह एएसपी को दी. एएसपी ने हालांकि बच्चों के पढ़ने लिखने का हवाला देकर गिरफ्तारी करने से मना कर दिया. बताया जाता है कि गजानंद पांडे के दोनों बच्चे पढ़ाई लिखाई करते हैं, इसीलिए पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया ताकि उनका कैरियर बर्बाद ना हो पाए. हालांकि जानकारों की मानें तो घर से हथियार बरामद होने के बाद पुलिस चाहती तो गजानंद पांडे के दोनों बेटों को गिरफ्तार कर सकती थी. छापामारी टीम में शामिल कुछ पुलिसकर्मी बेटों को भी गिरफ्तार करना चाहते थे लेकिन एएसपी ने उनको गिरफ्तार करने से मना कर दिया. बकौल एएसपी गजानंद पांडे की भूमिका संदिग्ध है, उसके बेटों की नहीं लिहाजा उनके बेटों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई. पुलिस की मानें तो गजानंद पांडे पंडारक टाल के इलाके में कमजोर तबके के लोगों तथा सरकारी विद्यालयों के शिक्षकों और उस इलाके में काम करने वाले ठेकेदारों पर दबाव बनाया करता था लेकिन उसके बच्चों के बारे में कोई शिकायत नहीं मिली थी. लिहाजा उनकी गिरफ्तारी नहीं की गई. एएसपी ने बताया कि पिता के करतूतों की सजा उसके बच्चों को देना किसी सूरत में उचित नहीं था.
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus