22 अप्रैल 2019, सोमवार | समय 05:58:25 Hrs
Republic Hindi Logo

पत्नी पर शक के कारण अपने ही बच्चे की हत्या चाहता है बाप

By Republichindi desk | Publish Date: 2/11/2019 2:35:17 PM
पत्नी पर शक के कारण अपने ही बच्चे की हत्या चाहता है बाप

रिपब्लिक डेस्कः यूक्रेन के नोवौक्रेइंका शहर से एक ऐसी घटना सामने आयी है, जिसे सुनकर किसी भी व्यक्ति का दिल दहल उठेगा,एक ऐसा पिता को पत्नी पर शक के कारण अपने ही चार साल के बेटे को लकड़ी के पिंजड़े में बंद करके उसे भूख से मारने की कोशिश कर रहा था. उसे शक था वह उसकी अपनी औलाद नहीं है.एक समाजिक संस्था ने पुलिस की मदद से बच्चों को जालिम पिता के कैद से छुड़ाया.पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है.

मारने का ऐसा तरीका उसने जो चुना था बहुत ही दर्दनाक था. उसने बच्चे को एक लकड़ी के पिंजड़े में बंद कर दिया और उसे खाना देना बंद कर दिया. बच्चा एक-एक दिन एक-एक सांस तिल-तिलकर मर रहा था.जब पुलिस ने घर में जबरन घुसकर बच्चे को उसके पिता की कैद से छुड़ाया तो बच्चा बिलकुल मरणासन्न हालत में था.

वो हिल-डुल भी नहीं पा रहा था. उसका वजन घटकर महज सात किलो रह गया था और उसके पूरे शरीर की पसलियां निकल आई थीं. वह इतना कमजोर हो गया था कि महज हड्डियों का ढांचा भर रह गया था. शरीर पर जरा भी मांस नहीं था और उसकी एक-एक हड्डी साफ नजर आ रही थी. पुलिस यह दृश्य  देखकर दंग रह गई और उसने तुरंत उस शख्स को गिरफ्तार कर लिया.

वह परिवार इतने रहस्यमय ढंग से और समाज से कटा हुआ रहता था कि काफी दिनों तक बाहर लोगों को पता भी नहीं चला कि घर के अंदर क्या हो रहा है.
काफी समय तक जब बच्चा नजर नहीं आया तो आसपास के लोगों को शक हुआ. उसके बाद एक सोशल वर्कर की शिकायत पर पुलिस ने घर पर छापा मारा.
घर अंदर से बंद था  इसलिए पुलिस को दरवाजा तोड़कर अंदर घुसना पड़ा.

पुलिस ने बच्चे  के बाप अलेक्जेंसडर को गिरफ्तार कर लिया. उसे अपने बेटे की जान लेने के आरोप में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है.केस की सुनवाई के दौरान यह बात सामने आई कि अलेक्जेंडर को अपनी पत्नी नतालिया पर शक था. उसे लगता था कि यह बच्चां उसका नहीं, बल्कि पत्नी के प्रेमी का है. इसलिए वह उसकी जान लेना चाहता था. केस के दौरान जब दोनों का डीएनए टेस्टन हुआ तो पता चला कि अलेक्जेंडर का शक गलत था. वह उसका ही बच्चा था.

लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी. बच्चे् की मां इस पूरे दौरान यह सब अपनी आंखों के सामने होता देख रही थी और उसने कुछ भी नहीं किया. इसलिए उस पर भी हत्याथ के प्रयास में सहयोग करने का मुकदमा चला. पुलिस ने व्लादिक और उसकी तीन बहनों को चाइल्ड  केयर कस्टसडी में भेज दिया. अब व्लादिक की तबीयत में काफी सुधार है. उसका वजन भी बढ़ गया है.
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus