17 जुलाई 2019, बुधवार | समय 12:06:27 Hrs
Republic Hindi Logo

भाजपा एनडीए में सीटें तो बंटी पर नहीं थम रहा विवाद

By Republichindi desk | Publish Date: 3/21/2019 10:18:11 AM
भाजपा एनडीए में सीटें तो बंटी पर नहीं थम रहा विवाद

पटना: लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के घटक दलों के बीच सीटों का बंटवारा तो कर लिया गया लेकिन घमासान अभी भी थमने का नाम नहीं ले रहा है. ऐसी कई सीटें हैं जहां घटक दलों के कार्यकर्ताओं के बीच ना सिर्फ असमंजस की स्थिति है बल्कि आक्रोश भी देखा जा रहा है.

सीवान में हुआ खुलकर विरोध
 
राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के घटक दलों के बीच सीटों के बंटवारे के बाद सीवान में जबरदस्त विरोध देखने को मिला है. दरौंदा में कार्यकर्ताओं ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. दरअसल सीवान भारतीय जनता पार्टी की सिटिंग सीट थी और ओम प्रकाश यादव यहां के सांसद हैं. सीट बंटवारे में यह सीट जदयू को दे दी गई है. इससे भाजपा कार्यकर्ताओं में नाराजगी है. सीवान के मौजूदा सांसद ओम प्रकाश यादव वहां से दो बार सांसद चुने जा चुके हैं. शहाबुद्दीन से उनकी प्रतिद्वंद्विता जगजाहिर है. पहले निर्दलीय सांसद के तौर पर चुनाव जीतने वाले ओम प्रकाश यादव ने बाद में भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ले ली थी. 2014 में भाजपा के टिकट पर ओमप्रकाश यादव चुनाव जीते थे. सीट बंटवारे में सीट जदयू को दिए जाने के बाद ओम प्रकाश यादव ने सार्वजनिक तौर पर अपना दुख जताया था. उन्होंने कहा था कि ईमानदारी पूर्वक काम करने का उपहार मिला है कि उनकी सिटिंग सीट जदयू को दे दी गई है.

वाल्मीकिनगर और गोपालगंज में भी भाजपा कार्यकर्ता दुखी
 
वाल्मीकिनगर और गोपालगंज की सीट भी जदयू को दे दी गई है. दोनों जगहों पर भारतीय जनता पार्टी के मौजूदा सांसदों का टिकट कट गया है. झंझारपुर की सीट की भी यही स्थिति है. गोपालगंज के सांसद जनक चमार ने हालांकि काफी दरियादिली दिखाई है. उन्होंने कहा है कि सीट भले ही जदयू को दे दी गई है लेकिन एनडीए प्रत्याशी को जिताने की वह हर संभव कोशिश करेंगे. वाल्मीकि नगर में भी भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के बीच नाराजगी देखी जा रही है. झंझारपुर की सीट भी जदयू को दे दी गई है. झंझारपुर के मौजूदा सांसद वीरेंद्र चौधरी ने जनता दल यूनाइटेड के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह से मुलाकात की थी. आशंका जताई जा रही है कि वीरेंद्र चौधरी जदयू के टिकट पर चुनाव लड़ सकते हैं.
 
 
गिरिराज सिंह का कायम है पैंतरा
 
बात बात पर विरोधियों को पाकिस्तान का वीजा थमाने वाले गिरिराज सिंह अभी भी अपने पैंतरे पर कायम हैं. गिरिराज सिंह नवादा के नाम पर आंसू तो खूब बहा रहे हैं लेकिन हकीकत है कि अंदर खाने वह बेगूसराय से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं. उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष राष्ट्रीय अध्यक्ष से मिलने की बात भी कही है. उनके आंसुओं पर किसी को भरोसा नहीं होता है. दरअसल लोग मानकर चल रहे हैं कि गिरिराज सिंह बेगूसराय से चुनाव लड़ने के लिए अंदर से तैयार हैं लेकिन बाहर से कार्यकर्ताओं को यह संदेश देना चाहते हैं कि वे खुद बेगूसराय से चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैं बल्कि पार्टी उन्हें बेगूसराय भेज रही है.
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus