23 अक्तूबर 2019, बुधवार | समय 05:16:31 Hrs
Republic Hindi Logo

एक ऐसा गांव जहां हिन्दू-मुस्लिम दोनों मिलकर मानते हैं दुर्गा पूजा

By Republichindi desk | Publish Date: 10/8/2019 11:08:28 AM
एक ऐसा गांव जहां हिन्दू-मुस्लिम दोनों मिलकर मानते हैं दुर्गा पूजा

रिपब्लिक डेस्कः ओडिशा में खोरदा जिले के माणिकगड गांव में दुर्गा पूजा हमेशा से हिन्दू-मुस्लिम एकता का प्रतीक रहती है, जहां दोनों समुदाय के लोग पांच दिवसीय उत्सव के दौरान अनुष्ठानों में हिस्सा लेते हैं. इस गांव में वर्षों से मुस्लिम व हिन्दू समुदाय मिलकर एकजुट हो मां की आराधना करते हैं. साथ ही हर नियम का पालन करते हुए दोनों समुदाय के लोग मां शक्ति की पूजा करते हैं.

इसी गांव में रहने वाले अब्दुल जे खान ने बताया कि दोनों धर्मों के लोग सदियों से मिलकर उत्साह के साथ उत्सव मनाते आ रहे हैं. हिन्दू और मुसलमान सभी सांप्रदायिक अवरोधकों को तोड़कर देवी दुर्गा के सामने हाथ जोड़ते हैं. यह 300 साल से ज्यादा की परंपरा है. हमारे दलपति (मुस्लिम समुदाय का मुखिया) भी अपराजिता पूजा में हिस्सा लेता है. अपराजिता देवी दुर्गा का एक रूप है.

उन्होंने बताया कि पहले दलपति दुर्गा मंडप में पूजा के लिए अपनी तलवार देते थे. गांव निवासी और शोधार्थी बाल्मिका बलियारसिंह ने बताया कि माणिकगड के मुस्लिम प्राचीन समय में मुख्यत: सैनिक के तौर पर सेवा देते थे. दुर्गा पूजा के दौरान सशस्त्र पूजा होती है और हिन्दू वार्षिक उत्सव के दौरान मुस्लिमों को आमंत्रित करते हैं.
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus