19 नवम्बर 2019, मंगलवार | समय 14:24:40 Hrs
Republic Hindi Logo

बड़ाबाजार में बनेगा भव्य गवरजा द्वार, रखी गयी आधारशिला

By Republichindi desk | Publish Date: 11/9/2019 2:02:05 PM
बड़ाबाजार में बनेगा भव्य गवरजा द्वार, रखी गयी आधारशिला

रिपब्लिक हिंदी डेस्क: कोलकाता में मरुभूमि की सोनाली माटी के उद्यमी बेटों ने जब शस्यश्यामला बङ्गभूमि को अपने कर्मस्थल के रूप में चुना, तब वे अपने परिवारों के साथ यहाँ नहीं आए थे. लेकिन, लगभग दो सौ वर्ष पूर्व, जब वे परिवार सहित यहाँ बसने लगे, तब मरुधरा की लोकसंस्कृति ने भी यहाँ डेरा डाल लिया. उनकी लोकसंस्कृति का, प्रतिनिधि पर्व है गणगौर. सामान्य तौर पर लोग इसे गौरी पूजन के पर्व के रूप में जानते हैं. कोलकाता में, आरम्भिक काल में यह पर्व, छोटे रूप में या सांकेतिक रूप में ही मनाया जाता रहा. सन् 1880 में, सार्वजनिक स्तर पर इसके वृहद रूप का श्रीगणेश हुआ.

सन् 2016 में, स्थानीय विधायक श्रीमती स्मिता बख़्शी ने श्री श्री मनसापूरण गवरजा मण्डली के आग्रह पर यहाँ गवरजा द्वार बनवाने की घोषणा की थी. उल्लेखनीय है कि गौरी को, राजस्थान में गौरा, गौरजा, गवरजा आदि नामों से भी पुकारा जाता है. इनमें से गवरजा तथा गणगौर बहुप्रचलित नाम हैं. अपनी घोषणा को कार्यरूप में परिणत करने के लिए स्थानीय विधायक ने देवप्रबोधिनी एकादशी के मंगलमय मुहूर्त में, कलाकार स्ट्रीट-देवेन्द्र दत्त लेन के संयोगस्थल पर, गवरजा द्वार की आधारशिला रखी. बङ्गवासी राजस्थानी मूल के लोगों के लिए, लोकसंस्कृति की दृष्टि से यह एक महत् कदम है. यह द्वार, ममता बनर्जी की संस्कृतिप्रियता से प्रेरित होकर, कोलकाता नगर निगम द्वारा मेयर कोष से निर्मित किया जा रहा है.

तृणमूल कांग्रेस की सरकार ने अपने पिछले कार्यकाल में ही कोलकाता के सौंदर्यीकरण की जो योजनाएँ शुरू की थीं, उनमें से एक है सिंहद्वार या तोरणद्वार निर्माण. कई महत्वपूर्ण स्थलों पर निर्मित तोरणद्वार, अपने-अपने क्षेत्र की शोभा बढ़ा रहे हैं. चैत्र नवरात्रि के अवसर पर मनाये जाने वाले राजस्थान के लोकपर्व गणगौर को यादगारस्वरूप कोलकाता के मेयर फण्ड से बनने वाले एक द्वार हेतु भूमिपूजन किया गया.

इस मौके पर विधायक स्मिता बक्शी ने कहा कि हमारी बंगाल की संस्कृति समावेशी संस्कृति है जहाँ हम सभी त्यौहार,उत्सव मिलजुल कर मानते है. हमारी नेत्री एवम प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की हमेशा यही भावना रही है कि भारत के सभी त्यौहार हम बंगाल में मिलजुल कर सद्भाव के साथ मनाये.इसी एकता के प्रतीक स्वरूप आज हमने स्थानीय लोगो की भावना का मान रखते हुवे गणगौर द्वार हेतु आज भूमिपूजन किया है.जल्द ही इसका निर्माण भी किया जाएगा. मुझे आशा ही नही पूर्ण विश्वास है कि पूरे देश में इस द्वार के माध्यम से हम सामाजिक एकता की मिसाल दे सकेंगे.

पूर्व विधायक संजय बक्शी ने भी इस गणगौर द्वार हेतु मुख्यमंत्री ममता बनर्जी एवम मेयर फिरहाद हकीम के प्रति आभार व्यक्त करते हुवे कहा कि हम इस क्षेत्र के वासी हमेशा भाईचारे के साथ रहते है और सभी उत्सव एकसाथ मानते है.कार्यक्रम के संयोजक स्वपन बर्मन ने बताया कि इस गणगौर द्वार के भूमिपूजन से पूरे क्षेत्र में खुशी का माहौल है.स्थानीय लोगो की आशाओं एवम आकांक्षाओं को पूरित करने हेतु सभी की ओर से स्थानीय विधायक के अथक प्रयास हेतु आभार व्यक्त जताया.गणेश पूजन एवम भूमि पूजन पंडित मनीष पुरोहित एवम पंडित अशोक पुरोहित के आचार्यत्व में समाज के विशिष्ठ जनों की उपस्थिति के मध्य सम्पन्न हुआ.
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus