23 अक्तूबर 2019, बुधवार | समय 05:52:03 Hrs
Republic Hindi Logo

मायापुर इस्कॉन के प्रारूपवाले पंडाल का उद्घाटन किये विदेशी भक्त

By लोकनाथ तिवारी | Publish Date: 10/3/2019 12:20:16 PM
मायापुर इस्कॉन के प्रारूपवाले पंडाल का उद्घाटन किये विदेशी भक्त

रिपब्लिक हिंदी डेस्क: बंगाल में विश्व के सबसे बड़े वैदिक मंदिर इस्कॉन मायापुर के निर्माणाधीन चंद्रोदया टेम्पल ऑफ़ वैदिक प्लैनेटेरियम की डिज़ाइन जैसा पंडाल बनाने का प्रचलन नया नहीं है. कल्याणी के रथतला वार्ड 20  सार्वजनीन दुर्गा पूजा बारवारी ने भी इस बार मायापुर मंदिर जैसा पूजा पंडाल निर्मित किया है. पहली बार इस्कॉन के आध्यात्मिक मुख्यालय, मायापुर से भक्तों की टोली ने चतुर्थी के दिन इस दुर्गा पूजनोत्सव का  उद्घाटन किया.

इस्कॉन मायापुर के मीडिया प्रवक्ता सुब्रत दास ने बताया कि वर्तमान समय में देखा जा रहा है कि फिल्म, खेल, फैशन और  राजनीति जगत के सितारे दुर्गापूजा का उद्घाटन करते हैं, वहीँ बुधवार की शाम कल्याणी के रथतला सार्वजनीन दुर्गोत्सव के उद्घाटन समारोह में ढोल, करतल, मृदंग बजाकर हरिनाम संकीर्तन करते हुए इस्कॉन मयापुर के भक्त पहुंचे. इस टोली में  रूस, पोलैंड, ऑस्ट्रेलिया, ब्राज़ील के विदेशी भक्त तथा इस्कॉन गुरुकुल के छात्र और वरिष्ठ भक्त भी शामिल हुए.

सबसे पहले गुरुकुल के छात्रों ने पवित्र और मंगलमय वैदिक मन्त्रों का उच्चारण किया जोकि किसी  भी  पूजा से पहले की जाती है. इसके पश्चात दीप जलाकर और नारियल तोड़ कर पंडाल और पूजा का विधिवत उद्घाटन किया गया. इसके बाद भक्तों ने मां दुर्गा की आरती की. विभिन्न मन्त्रोच्चारणों से पंडाल गूंज उठा. इस के उपरांत बड़े धूम धाम से भक्तों ने हरिनाम संकीर्तन किया. इस उद्घाटन समारोह में उपस्थित सभी लोग हरे कृष्ण हरे राम की धुन पर झूम उठे. सभी लोगों ने इस अनोखे उद्घाटन समारोह का भरपूर आनंद उठाया. 

साधारणतः इस्कॉन के भक्त भगवन श्री कृष्णा की आराधना करने के लिए जाने जाते है लेकिन गौड़ीय वैष्णव ग्रंथों के अनुसार माँ दुर्गा को भगवान श्री कृष्ण की बहिरंगी शक्ति ( एक्सटर्नल एनर्जी ) के रूप में माना  जाता है. इसी कारण भक्त लोग माँ से भगवन श्री कृष्णा के प्रति भक्ति पथ पर अग्रसर होने के लिए शक्ति की कामना करते है.
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus