17 जून 2019, सोमवार | समय 08:00:35 Hrs
Republic Hindi Logo

दुष्कर्म पीड़िता ने गर्भपात कराने से किया इनकार तो पंचायत ने किया बेघर

By Republichindi desk | Publish Date: 6/4/2019 2:22:21 PM
दुष्कर्म पीड़िता ने गर्भपात कराने से किया इनकार तो पंचायत ने किया बेघर

रिपब्लिक डेस्कः महाराष्ट के धुलिया जिले के एक गांव में पंचायत ने एक 15 वर्षिय दुष्कर्म पीड़िता ओर उसके परिवार को एक अजीबो-गरीब फरमान सुना दिया है. नाबालिग के परिवार ने उसका गर्भपात कराने से मना किया तो उन्हें कथित तौर पर अपना घर छोड़ने के लिए मजबूर किया गया. परिवार का आरोप है कि गांव की पंचायत नाबालिग को गर्भपात कराने के लिए मजबूर कर रही है क्योंकि पंचायत सदस्य के एक रिश्तेदार ने उनकी बेटी के साथ दुष्कर्म किया है. हालांकि पीड़िता के परिवार ने गर्भपात नहीं कराया और 30 मई को नाबालिग पीड़िता ने एक बच्चे को जन्म दिया.

पीड़िता के माता-पिता का कहना है कि वे घटना के समय गुजरात गए हुए थे. जब वह गांव वापस लौटे तो उन्हें पता चला कि उनकी बेटी आठ महीने की गर्भवती है. पीड़िता के पिता ने कहा कि दुष्कर्म का पता चलने पर उन्होंने न्याय के लिए पंचायत से गुहार लगाई. पिता ने बताया कि पंचायत ने पीड़िता की मदद करने के बजाए गर्भपात कराने के लिए उसका उत्पीड़न शुरू कर दिया. साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि शुरुआत में पुलिस अनिच्छुक थी. लेकिन बाद में उन्होंने मामला दर्ज तब किया जब सामाजिक कार्यकर्ता नवल ठाकरे ने उक्त मामले में हस्तक्षेप किया. मामला दर्ज होने के बाद पंचायत कथित तौर पर परिवार पर केस वापस लेने और गर्भपात करवाने के लिए दबाव बनाने लगी. जिससे परिवार ने मना कर दिया क्योंकि इससे 15 साल की मासूम की जिंदगी खतरे में पड़ सकती थी. पीड़िता के पिता ने कहा कि मामला दर्ज होने के बाद पंचायत ने उनपर 11,000 रुपये का जुर्माना लगाया. साथ ही उन्हें मोबाइल पर धमकी भी देते रहे. इतना ही नहीं फिलहाल उन्हें सार्वजनिक नल से पानी और मिल से आटा तक नहीं लेने दिया जा रहा है.
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus