21 अगस्त 2019, बुधवार | समय 13:54:26 Hrs
Republic Hindi Logo

श्रीलंका में चार हजार बौद्ध महिलाओं की नसबंदी की खबर से तनाव

By Republichindi desk | Publish Date: 6/8/2019 1:15:54 PM
श्रीलंका में चार हजार बौद्ध महिलाओं की नसबंदी की खबर से तनाव

 न्यूज डेस्कः श्रीलंका में एक मुस्लिम डॉक्टर की ओर से चार हजार बौद्ध महिलाओं की गुप्त रूप से नसबंदी के दावे से तनाव फैल गया है.  एक अखबार ने दावा किया था कि डॉक्टर ने ऑपरेशन से बच्चों को जन्म देने वाली महिलाओं की गुप्त रूप से नसबंदी की है. हालांकि इस रिपोर्ट की स्वतंत्र तौर पर पुष्टि नहीं हो पाई है. श्रीलंका के अखबार 'दिवाइना' ने 23 मई को यह दावा करते हुए अपने पहले पेज पर एक रिपोर्ट छापी थी.

अखबार ने अपनी खबर में कथित तौर पर नसबंदी करने वाले डॉक्टर की पहचान उजागर नहीं की है, लेकिन कहा जा रहा है कि वह प्रतिबंधित आतंकी संगठन नैशनल तौहीद जमात का सदस्य भी है, जिस पर ईस्टर के मौके पर चर्चों और होटलों में बम धमाके कराने का आरोप है. 

'दिवाइना' के एडिटर-इन-चीफ अनुरा सोलोमोंस ने बताया कि उनके अखबार यह खबर पुलिस और अस्पताल के सूत्रों के आधार पर बनाई गई है. एक मुस्लिम डॉक्टर पर जबरन या फिर चोरी से बौद्ध महिलाओं की नसबंदी किए जाने के आरोप द्विपीय देश में लोगों को भड़काने वाले साबित हो सकते हैं.

बता दें कि श्रीलंका में बहुसंख्यक बौद्ध धर्म के कट्टरपंथी मुस्लिमों पर अपनी आबादी को तेजी से बढ़ाने का आरोप लगाते रहे हैं.ऐसे में बौद्ध महिलाओं की नसबंदी की खबर हिंसा को जन्म दे सकती है.

इस खबर के दो दिन बाद ही पुलिस ने एक डॉक्टर सेगु शिहाबदीन मोहम्मद शफी को गिरफ्तार किया है.पुलिस का कहना है कि डॉक्टर पर संदिग्ध पैसे से प्रॉपर्टी खरीदने का आरोप है. पुलिस नसबंदी के दावों की भी चांज कर रही है और उसका कहना है कि ऐसी महिलाओं को सामने आना चाहिए, जो शिकार हुई हैं.पुलिस के प्रवक्ता रुवान गुणाशेखरा ने बताया कि शफी पर मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है, लेकिन उन्होंने शफी पर किसी तरह के वित्तीय अपराध के आरोपों और नसबंदी के दावों पर कुछ भी कहने से इनकार किया.

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus