23 सितम्बर 2019, सोमवार | समय 22:07:46 Hrs
Republic Hindi Logo

आम्रपाली ग्रुप का पंजीकरण निरस्त होने से सैंकड़ो खरीदारों की चिंता बढ़ी

By Republichindi desk | Publish Date: 9/5/2019 12:59:21 PM
आम्रपाली ग्रुप का पंजीकरण निरस्त होने से सैंकड़ो खरीदारों की चिंता बढ़ी

न्यूज डेस्कः रेरा द्वारा आम्रपाली ग्रुप के सभी पंजीकरण को निरस्त कर दिए जाने के बाद आम्रपाली के 42 हजार फ्लैट खरीदारों की चिंता बढ़ गया है. फ्लैट खरीदारों का कहना है कि उन्हें तो फायदा तब होता, जब रेरा यह व्यवस्था करता कि अधूरे प्रोजेक्ट को कैसे पूरा किया जाएगा और इनमें काम कैसे शुरू होगा. इसको लेकर अभी तक स्थिति स्पष्ट नहीं है.

आम्रपाली होम बायर्स ग्रुप के के कौशल ने कहा कि अनेक परियोजना ऐसे हैं, जिनका रेरा में पंजीकरण था ही नहीं. रेरा के पंजीकरण निरस्त करने का आदेश तो उच्चतम न्यायालय पूर्व में ही दे चुका था, जिसका पालन अब हुआ है यह कार्रवाई पहले हो जानी चाहिए थी. रेरा ने पंजीकरण निरस्त कर दिया है तो अब रेरा यह भी व्यवस्था करे कि अटके फ्लैट का निर्माण कैसे होगा.

आम्रपाली पर दो दर्जन से ज्यादा मुकदमे

नोएडा-ग्रेटर नोएडा में बिसरख, थाना सेक्टर-58, 49 व 39 में आम्रपाली के खिलाफ दो दर्जन से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं. आम्रपाली के खिलाफ अकेले बिसरख थाना क्षेत्र में 2000 हजार खरीददारों की तरफ से 13 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं.

अर्श से फर्श पर

आम्रपाली के निदेशक अनिल शर्मा का बिहार के गांव पंडारक में जन्म हुआ. एनआईटी कालीकट से बी.टेक की डिग्री ली. आईआईटी खड़गपुर से एम.टेक किया. बिहार सरकार के नगर विकास एवं आवास विभाग में सहायक अभियंता रहे. वर्ष 2002 में दिल्ली आकर की रियल एस्टेट कारोबार की शुरुआत की. 2012 में राज्यसभा का चुनाव लड़ा. 2014 में बिहार जहानाबाद लोस सीट से जद यू के टिकट पर चुनाव लड़ा.

फर्जी कंपनियां बनाने का भी आरोप

ग्रुप के चेयरमैन अनिल शर्मा ने 23 फर्जी कंपनियां बना रखी थीं. ड्राइवर और चपरासी तक निदेशक थे. अनिल शर्मा और उनकी कंपनी पर 3000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप है.


 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus