20 अगस्त 2019, मंगलवार | समय 22:10:53 Hrs
Republic Hindi Logo

TMC और BJP के पोस्टल वार से डाक विभाग को करोड़ों की चपत

By लोकनाथ तिवारी | Publish Date: 6/7/2019 12:01:34 PM
TMC और BJP के पोस्टल वार से डाक विभाग को करोड़ों की चपत

रिपब्लिक डेस्क: लोकसभा चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेताओं के बीच हिंसक और प्रतिशोधात्मक झड़पों के साथ-साथ पोस्टकार्ड युद्ध भी शुरू है. इससे केंद्र सरकार के डाक विभाग को भारी नुकसान हो रहा है. बीजेपी और टीएमसी के बीच पोस्टकार्ड वॉर से 30 लाख से ज्यादा कार्ड का इस्तेमाल किया जाएगा जिसका मकसद सिर्फ राजनीतिक हित साधना है. इसके कारण केंद्र सरकार को साढ़े 3 करोड़ रुपये से ज्यादा का नुकसान हो रहा है.

पॉलिटिकल लाभ के लिए भारतीय जनता पार्टी की ओर से बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को उनके आवास पर 'जय श्री राम' लिखा 10 लाख पोस्टकार्ड भेज रही है. वहीं टीएमसी की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को 'वंदेमातरम' और 'जय बांग्ला' लिखकर 20 लाख पोस्टकार्ड भेजा जा रहा है.

पोस्टकार्ड पर दी जाती है सबसिडी

पोस्टकार्ड भारत सरकार का एक ऐसा उत्पाद है जिसे आम जनता की खातिर जनहित में बेहद सस्ते दामों पर बेचा जाता है. डाक विभाग की 2016-17 की रिपोर्ट के अनुसार, एक साधारण पोस्टकार्ड पर 12.15 रुपए का खर्च आता है, बदले में सरकारी खजाने में 50 पैसे ही आते हैं और यह निर्माण के कुल लागत का महज 4 फीसदी ही है. इस तरह से सरकार एक पोस्टकार्ड पर 11.75 रुपए की सब्सिडी देती है.

बढ़ेगा सरकार का खर्च

इस तरह से 10 लाख पोस्टकार्ड भेजने वाली बीजेपी 1.21 करोड़ रुपए से ज्यादा और टीएमसी 2.43 करोड़ रुपए का अनावश्यक का खर्च बढ़ाएगी. जिस हिसाब से वार जोर पकड़ रहा है उससे ऐसा लगता है कि पोस्टकार्ड की संख्या 30 लाख को भी पार कर जाएगी. पोस्टकार्ड की संख्या 30 लाख की संख्या को पार कर गई तो सरकार का नुकसान और बढ़ जाएगा. डाक विभाग केंद्र के अधीन है तो सारा खर्च केंद्र को ही वहन करना पड़ेगा.

पर्यावरण को नुकसान

दोनों दलों की ओर से 30 लाख से ज्यादा पोस्टकार्ड इस्तेमाल किए जाने का असर उसकी मांग पर पड़ेगा और इसकी भरपाई के लिए ज्यादा पोस्टकार्ड छापने होंगे जिससे बड़ी संख्या में पेड़ कटेंगे और पर्यावरण को नुकसान पहुंचाएंगे. वहीं पोस्टकार्ड की कमी होने से रोकने के लिए आनन-फानन में हर जगह उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए संघर्ष भी करना पड़ेगा. सबसे बड़ी बात जो पोस्टकार्ड दोनों दलों को भेजे जाएंगे वो महज सांकेतिक हैं और बाद में इसे कूड़े में फेंक दिया जाएगा.

डाक विभाग में पोस्टकार्ड का अंबार

पिछले कुछ दिनों से साउथ कोलकाता में स्थित कालीघाट पोस्ट ऑफिस में हजारों पोस्टकार्डों का अंबार लग गया है. इन पोस्ट कार्ड्स पर 'जय श्री राम' लिखा है और इसे ममता बनर्जी को भेजा गया है. ममता बनर्जी का घर इसी पोस्ट ऑफिस के कार्यक्षेत्र में आता है. पोस्ट ऑफिस के सूत्रों ने बताया कि आमतौर पर सीएम के लिए 30 से 40 पोस्टकार्ड और रजिस्टर्ड लेटर आते थे. लेकिन अचानक यह कई गुना बढ़ गया है. कालीघाट पोस्ट ऑफिस ने ममता बनर्जी के आवास के लिए एक पोस्ट मैन लगा दिया है. एक कर्मचारी ने कहा, 'पोस्टमैन पत्रों को लेकर प्रतिदिन जाता है और उसे निर्धारित व्यक्ति को सौंपकर चला आता है.

टीएमसी ने भी भेजे पोस्ट कार्ड

इस बीच रेलवे मेल सर्विस ने भी गुरुवार को सीएम को भेजे गए करीब 4500 पोस्टटकार्ड अलग किए. उधर, ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस इससे खुश नहीं है और उसने भी पोस्टकार्ड का जवाब पोस्टचकार्ड से देना शुरू कर दिया है. टीएमसी 'जय श्री राम' की जगह पर 'जय हिंद, जय बांग्ला' लिखे पोस्ट कार्ड प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेज रही है.

प्रतिदिन आठ हजार पोस्टर कार्ड भेज रहे

टीएमसी के नेता और राज्य के खाद्य मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक ने बताया कि उत्तर 24 परगना, हावड़ा और हुगली के हमारे समर्थक प्रतिदिन आठ हजार पोस्टकार्ड भेज रहे हैं. वर्तमान समय में पोस्टकार्ड की कमी हो गई है और हमने फैसला किया है कि अब पत्र छापे जाएंगे और उसे पीएम मोदी को भेजा जाएगा.

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus