15 दिसम्बर 2019, रविवार | समय 19:16:09 Hrs
Republic Hindi Logo

अर्थ व्यवस्था ICU में किससे सवाल पूछें नेहरू से या टीपू सुल्तान से

By लोकनाथ तिवारी | Publish Date: 11/30/2019 2:03:18 PM
अर्थ व्यवस्था ICU में किससे सवाल पूछें नेहरू से या टीपू सुल्तान से

रिपब्लिक हिंदी डेस्क: देश की गिरती अर्थ व्यवस्था को लेकर बॉलीवुड के अभिनेता प्रकाश राज ने व्यंग्य किया है. उन्होंने लिखा है कि अर्थव्यवस्था आईसीयू में है विकास और विश्वास इनक्यूबेटर में है. ऐसे में हम किससे सवाल करें. नेहरू से या टीपू सुल्तान से. गौरतलब है कि अभिनेता प्रकाश राज हर मुद्दे पर निडर होकर अपनी राय रखने के लिए जाने जाते हैं. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर प्रतिकूल टिप्पणियों के लिए उनको कई बार धमकियां भी मिल चुकी हैं.

गौरतलब है कि भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं. शुक्रवार को सामने आए आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, भारत की अर्थव्यवस्था में जुलाई से सितंबर के बीच बीते 6 सालों में सबसे धीमे स्तर पर बढोतरी हुई. इस दौरान देश की जीडीपी केवल 4.5 फीसदी रही जोकि पिछली तिमाही के जीडीपी (5 फीसदी) से भी कम है. विपक्षी दल इसको लेकर मोदी सरकार पर निशाना भी साध रहे हैं. अब बॉलीवुड गलियारे से भी इस संबंध में रिएक्शन आ रहे हैं. बॉलीवुड एक्टर प्रकाश राज ने इस संबंध में एक ट्वीट किया है, जो सुर्खियों में है.

प्रियंका गांधी ने शनिवार को ट्वीट कर कहा, तरक्की की चाह रखने वाले भारत और उसकी अर्थव्यवस्था को बीजेपी सरकार ने अपनी नाकामी के चलते बर्बाद कर दिया है. उन्होंने कहा कि आज GDP ग्रोथ 4.5% है, जिससे साबित होता है कि सारे वादे झूठे हैं. प्रियंका गांधी ने कहा कि 2 करोड़ रोजगार हर साल, फसल का दोगुना दाम, अच्छे दिन आएंगे और अर्थव्यवस्था 5 ट्रिलियन होगी. क्या किसी वादे पर हिसाब मिलेगा.

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने ट्वीट किया है कि तीसरी तिमाही की जीडीपी विकास दर भी 4.5 फीसदी से ज्यादा नहीं होगी बल्कि इसके और भी खराब होने की आशंका है. ‘झारखंड के लोगों को भाजपा के खिलाफ वोट करना चाहिए और भाजपा सरकार की नीतियों और शासन के मॉडल को खारिज करना चाहिए. उनके पास ऐसा करने का पहले मौका आया है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद कपिल सिब्बल ने मोदी सरकार को आड़े हाथों लिया हैं. सिब्बल ने ट्वीट किया कि लगातार छठी तिमाही में गिरावट के साथ जीडीपी 4.5% पर जा पहुंची है, ये पिछले 6 साल में निम्नतम स्तर पर है. उन्होंने लिखा कि इस पर भी हमारी वित्त मंत्री कहती है कि धीरज रखो. सिब्बल ने कहा कि वित्त मंत्री जी भूख का कोई “धैर्य” नहीं है. कांग्रेस नेता ने गृहमंत्री अमित शाह पर भी निशाना साधा और वास्तविक मुद्दों के समाधान के लिए सलाह दी.

गौरतलब है कि वस्तु उत्पादन, कृषि व खनन गतिविधियों में भारी कमी आने से देश की समग्र विकास दर सितंबर में समाप्त दूसरी तिमाही में घटकर 4.5 फीसदी हो गई. यह लगातार पांचवीं तिमाही में गिरावट है और छह सालों में सबसे कम जीडीपी वृद्धि दर है. 2018-19 की दूसरी तिमाही में वृद्धि 7 फीसदी पर रही. वृद्धि दर क्रमिक आधार पर 2019-20 के पहली तिमाही के 5 फीसदी से कम हो गई, 2018-19 के चौथी तिमाही में 5.8 फीसदी ही और 2018-19 की तीसरी तिमाही में 6.6 फीसदी रही. वर्तमान में देश की अर्थव्यवस्था उच्च जीएसटी दरों, कृषि संकट, वेतन में कमी और नकदी की कमी की वजह से 'मंदी' का सामना कर रही है.
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus