25 मार्च 2019, सोमवार | समय 11:02:47 Hrs
Republic Hindi Logo

उपेंद्र कुशवाहा का आरोपों से इनकार, बोले- इस खेल के पीछे है कोई और सूत्रधार

By Republichindi desk | Publish Date: 3/13/2019 2:06:20 PM
उपेंद्र कुशवाहा का आरोपों से इनकार, बोले- इस खेल के पीछे है कोई और सूत्रधार

पटना: राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने अपने ऊपर लगे आरोपों को लेकर पलटवार किया है. उन्होंने पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव प्रदीप मिश्रा द्वारा लगाए गए तमाम आरोपों से इंकार किया और कहा कि इन आरोपों का असल सूत्रधार कोई और है.

टिकट के लिए नहीं लिया हूं, पैसा भ्रष्टाचार के आरोप बेमानी

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि उन्होंने लोकसभा चुनाव में टिकट के नाम पर किसी से कोई पैसा नहीं लिया है और इस तरह के लगाए गए तमाम आरोप बेबुनियाद हैं. उन्होंने कहा कि प्रदीप मिश्रा द्वारा खुद ही यह कहा गया है कि उपेंद्र कुशवाहा ने उनसे पैसा मांगा था और मांगने के बाद ही उन्होंने पैसा दिया था. उन्होंने कहा कि किसी व्यक्ति को यदि कुछ जरूरत होती है तो वह अपने नजदीकी लोगों से पैसा मांगता ही है और इसमें कोई गुनाह नहीं है. उन्होंने विदेश यात्रा सहित तमाम मुद्दों पर भी खुद को पाक साफ बताया. हालांकि पैसे लेने का कारण और पैसा वापसी को लेकर पूछे गए सवालों को वे टाल गए.

खेल के पीछे सूत्रधार कोई और

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि उन पर लगाए गए तमाम आरोप बेबुनियाद और निराधार हैं. उन्हें यह भी कहा कि अभी तो महागठबंधन की सीट ही फाइनल नहीं हुई है. ऐसे में जब उनको पता नहीं है कि कौन सीट उनके खाते में आएगी तो भला वह अपने से निर्णय लेते हुए मोतिहारी की सीट कैसे किसी को दे सकते हैं या बेच सकते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि यदि सीटों का फैसला हो गया होता और उनकी पार्टी के हिस्से में सीट आ गई होती तो आरोप लगाने पर बातें समझ में भी आती. उन्होंने बार-बार कहा खेल के पीछे कोई और है. हालांकि उन्होंने उसका नाम बताने से परहेज कर दिया.

प्रदीप मिश्रा ने लगाए थे कई आरोप

रालोसपा के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव प्रदीप मिश्रा ने उपेंद्र कुशवाहा पर कई तरह के आरोप लगाए थे. पार्टी के टिकट के नाम पर पैसा मांगने, 9 करोड़ रुपए में टिकट बेचने के आरोप लगाए गए थे. प्रदीप मिश्रा कभी उपेंद्र कुशवाहा के खास हुआ करते थे लेकिन फिलहाल वे नाराज चल रहे हैं. बात सिर्फ प्रदीप मिश्रा की नहीं है. उनके अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणि, अभयानंद सुमन, संजीत कुमार सिंह जैसे कई नेता पार्टी से लगभग विद्रोह कर चुके हैं और अपनी अलग लाइन पकड़ रहे हैं.

 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus