19 नवम्बर 2019, मंगलवार | समय 13:50:22 Hrs
Republic Hindi Logo

भोजपुरी फिल्म लहू मांगे लोहा में काम किये हैं नोबेल लॉरेट अभिजीत बनर्जी

By लोकनाथ तिवारी | Publish Date: 10/16/2019 3:51:41 PM
भोजपुरी फिल्म लहू मांगे लोहा में काम किये हैं नोबेल लॉरेट अभिजीत बनर्जी

रिपब्लिक हिंदी डेस्क: अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार प्राप्त अभिजीत बनर्जी ने एक भोजपुरी फिल्म लिखने में भी सहायता की थी. प्रेसिडेंसी कॉलेज कोलकाता में अभिजीत बनर्जी के सहपाठी प्रदीप साहा ने लोगों को जागरूक करने के लिए यह भोजपुरी फिल्म बनायी थी. लहू मांगे लोहा नामक इस भोजपुरी फिल्म का अल्टरनेटिव नाम नून मांगे खून भी सुझाया था. अभिजीत बनर्जी फिल्मों में भी गहरी रुचि रखते हैं.

प्रदीप साहा ने बताया कि जब अभिजीत को फिल्म के बारे में बताया तो स्क्रिप्ट लिखने में उन्होंने मदद की. 23 मिनट की भोजपुरी फिल्म के स्क्रिप्ट लेखन और शोध में अभिजीत बनर्जी ने भरपूर सहयोग किया था.

बहुमुखी प्रतिभा के धनी अभिजीत बनर्जी को कॉलेज के दिनों में ही कई सारे शौक थे. वह अपने आसपास के लोगों के जीवनयापन के तौर तरीकों पर भी बारीक नजर रखते थे. उनके सामाजिक और राजनीतिक परिदृश्य की जानकारी हासिल करते रहते थे. उन्होंने दो डॉकुमेंट्री भी बनायी थी. द नेम ऑफ द डिजीज (2006) और द मैग्निफिशेंट जर्नी: टाइम्स एंड टेल्स ऑफ डेमोक्रेसी (2019). उन्होंने कोलकाता के सिनेमाटोग्राफर रानू घोष के साथ द मैग्निफिशेंट जर्नी: टाइम्स एंड टेल्स ऑफ डेमोक्रेसी के निर्देशन  में भी सहयोग किया था. इसमें कोंकोना सेन शर्मा ने एंकरिंग की थी. 
 

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus