21 नवम्बर 2019, गुरुवार | समय 15:51:56 Hrs
Republic Hindi Logo

इंडिया न्यूज़ीलैंड मैच के चलते गिर सकती थी बिहार सरकार

By Republichindi desk | Publish Date: 7/10/2019 10:01:50 AM
इंडिया न्यूज़ीलैंड मैच के चलते गिर सकती थी बिहार सरकार

न्यूज़ डेस्क.  9 जुलाई को इंग्लैंड में वर्ल्ड कप क्रिकेट का सेमीफाइनल मैच इंडिया और न्यूजीलैंड के बीच खेला जा रहा था और इसी को देखने के लिए एनडीए के 47 विधायक सदन में उपस्थित नहीं थे. ऐसे में मंगलवार को बिहार विधानसभा के मॉनसून सत्र के दौरान नीतीश कुमार सरकार के गिरने की नौबत आ गई थी.

विधानसभा में सहकारिता विभाग की तरफ से मांग बजट प्रस्तुत किया गया था जिस पर बहस हुई. इस मुद्दे पर बहस के बाद विपक्ष की ओर से आरजेडी नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी के तरफ से कटौती प्रस्ताव लाया गया जिसका सरकार की तरफ से पुरजोर विरोध किया गया. इसी बहस के दौरान इस मुद्दे पर सदन में मतदान करने की नौबत आ गई. सदन में वोटिंग की नौबत जैसे ही आई वैसे ही नीतीश कुमार सरकार में खलबली मच गई. 

बहरहाल कुछ ऐसे विधायक भी थे जो इंडिया और न्यूजीलैंड के मैच टीवी पर नहीं देख रहे थे मगर वह सदन में मौजूद ना होकर सदन के बाहर लॉबी में घूमते नजर आए. स्पीकर विजय कुमार चौधरी की तरफ से जैसे ही मत विभाजन का आदेश हुआ उसके बाद सदन में मौजूद विधायकों ने वोटिंग की. नीतीश सरकार के लिए सुकून वाली बात यह रही कि प्रस्ताव के पक्ष में 85 वोट पड़े और विरोध में 52 मत यानी सहकारिता विभाग की मांग प्रस्ताव सदन में 33 मत से अंतर से पारित हो गया. 

गौरतलब है कि विधानसभा में बीजेपी और जदयू गठबंधन विधायकों की संख्या 132 है मगर केवल 85 ही उस वक्त सदन में मौजूद थे. इसका मतलब है कि एनडीए के 47 विधायक सदन में मौजूद नहीं थे जिसकी वजह से नीतीश सरकार के गिरने की नौबत आ गई थी. नीतीश सरकार के लिए राहत की बात है कि विपक्ष के भी ज्यादातर सांसद सदन से अनुपस्थित थे. अगर यह प्रस्ताव गिर जाता तो सरकार के लिए नैतिक संकट हो जाता और इस्तीफा देना पड़ता.

Copyright © 2018 Shailputri Media Private Limited. All Rights Reserved.

Designed by: 4C Plus